Grab the widget  Get Widgets

reward me free sg

tag

Showing posts with label गूगल. Show all posts
Showing posts with label गूगल. Show all posts

Thursday, April 4, 2013

गूगल रीडर बन्द हो रहा है, दूसरे फीड रीडर विकल्प




गूगल रीडर के प्रयोक्ताओं के लिये निराशाजनक समाचार है। गूगल १ जुलाई से इसे बन्द करने जा रहा है। गूगल ने अपने ब्लॉग पर “A second spring of cleaning” नामक ब्लॉग पोस्ट में इस आशय की घोषणा की। यह गूगल रीडर के प्रयोक्ताओं के लिये बड़ा झटका है। गूगल के इस निर्णय से प्रयोक्ताओं में काफी निराशा तथा नाराजगी है। यहाँ तक कि ट्विटर पर ‘Google Reader’ ट्रेंडिंग टॉपिक भी बन गया।
Google_reader_shutting_down
गूगल रीडर सर्वाधिक लोकप्रिय फीड रीडर है। यह एक क्लाउड आधारित फीड सिंकिंग सेवा है। हिन्दी चिट्ठाकारों में भी यह ब्लॉग पठन के लिये लोकप्रिय है। यह एक वेब ऍप है जिसे किसी भी डिवाइस पर प्रयोग किया जा सकता है। इसका इंटरफेस सरल तथा प्रयोक्ता मित्र है। मोबाइल डिवाइसों पर मिनिमल इंटरफेस पठनीयता को और बढ़ा देता है। इस पर कई फीड रीडर ऍप्लिकेशनें आधारित हैं। गूगल द्वारा इसे बन्द करने का कारण इसका प्रयोग घटना बताया गया है। वह कम सेवाओं पर अपना ध्यान केन्द्रित करना चाहता है। इसके साथ बन्द होने जा रही कुछ अन्य सेवाओं में स्नैपसीड (मॅक तथा विण्डोज़ संस्करण), ब्लैकबेरी गूगल वॉइस ऍप तथा गूगल ऑफिस क्लाउड कनैक्ट प्लगइन शामिल हैं। इससे पहले भी गूगल स्क्रिप्ट कन्वर्टर जैसी बेहतरीन सेवा बन्द कर चुका है। हालाँकि इस ब्लॉग पोस्ट के अनुसार गूगल रीडर अब भी गूगल+ से अधिक ट्रैफिक प्राप्त करता है। कइयों को लगता है कि रीडर को बन्द करना गूगल प्लस पर शेयरिंग बढ़ाने की सोची-समझी रणनीति है।
हाल के वर्षों में सोशल नेटवर्किंग सेवाओं का प्रचलन बढ़ने से फीड रीडरों का उपयोग घटा है लेकिन अब भी ये उन लोगों के लिये आवश्यक है जो कई वेबसाइटों तथा ब्लॉगों की वेब फीड को फॉलो करते हैं। खैर गूगल रीडर के विकल्प उपलब्ध हैं हालाँकि सम्भवतः कोई भी उस  जितना अच्छा शायद न हो। नेटवाइब्स गूगल रीडर जैसे इंटरफेस वाला एक लोकप्रिय वेब रीडर है। न्यूजब्लर एक अन्य रीडर है जिसका इंटरफेस काफी कुछ गूगल रीडर जैसा है। इसकी ऍण्ड्रॉइडतथा आइओऍस ऍप्स भी उपलब्ध हैं। समस्या ये है कि मुफ्त संस्करण में कुछ सीमायें हैं। फीडली एक वेब रीडर है जिसका गैर-पारम्परिक इंटरफेस न्यूजपेपर शैली का है। इसे प्रयोग करने हेतु आपको क्रोम या फायरफॉक्स ऍक्सटेंशन इंस्टॉल करनी होगी। फीडली को आप गूगल रीडर से सिंक कर सकते हैं। गूगल रीडर से इस पर शिफ्ट होना आसान बनाने के लिये सने घोषणा की है कि गूगल रीडर के बन्द होने पर यह स्वतः काम करना जारी रखेगा। पल्सताप्तू, फ्लिपबोर्ड आदि कुछ अन्य नाम हैं। फ्लिपबोर्ड पहले से लोकप्रिय है लेकिन यह केवल ऍण्ड्रॉइड तथा आइओऍस के लिये उपलब्ध है, डैस्कटॉप के लिये नहीं।
आपका अगला काम होगा गूगल रीडर की फीड को नये रीडर में इम्पोर्ट करना। इसके लिये आप गूगल टेकआउट के उपयोग से गूगल रीडर की सैटिंग ऍक्सपोर्ट कर सकते हैं।
  1. गूगल टेकआउट के रीडर पेज पर जायें तथा Create Archive बटन दबायें। यह आपकी सभी फीड सब्स्क्रिप्शन तथा अन्य जानकारियों जैसे स्टार आइटम आदि युक्त एक जिप फाइल बना देगा। हालाँकि अधिकतर नये रीडर इन अन्य जानकारियों को इम्पोर्ट न कर पायेंगे।
  2. काम पूरा हो जाने पर डाउनलोड बटन दबाकर फाइल उतार लें।
  3. जिप फाइल को खोलें। इसमें एक Reader  नामक फोल्डर होगा जिसमें subsciptions.xml नामक फाइल होगी। इसे डैस्कटॉप पर ऍक्सट्रैक्ट कर लें।
  4. अपना नया चुना फीड रीडर खोलें। इसकी सैटिंग्स में जायें तथा इम्पोर्ट का विकल्प खोजकर subsciptions.xml नामक फाइल को आयात कर लें। आपकी सभी फीड नये रीडर में आ जायेंगी।
आपके पास नया फीड रीडर चुनने के लिये तीन महीने का समय है। फिलहाल गूगल रीडर प्रयोग करते रहें और साथ-साथ विभिन्न सेवायें आजमा कर देखें कि कौन सी आपके लिये सबसे सही है। गूगल रीडर की सैटिंग्स का एकाध बैकअप अब ले लें और एक जून के अन्त में लेकर नयी चुनी सेवा पर शिफ्ट हो जायें। वैसे फीडली जैसी कुछ सेवायें उपर्युक्त प्रक्रिया को आजमाये बिना भी गूगल रीडर से सिंक करके आपकी फीड सब्स्क्रिप्शन को वहाँ आयात कर रही हैं। इससे आप उन्हें गूगल रीडर के साथ-साथ प्रयोग करते रह सकते हैं।
सोशल नेटवर्किंग सेवाओं के प्रचलन से भले फीड का उपयोग घटा हो लेकिन अब भी यह काफी उपयोग होता है और फिलहाल लम्बे समय तक होता रहेगा। यह समझ नहीं आता कि जब गूगल पच्चीसों बेकार सेवायें जारी रख सकता है तो एक इस उपयोगी और लोकप्रिय सेवा को क्यों नहीं। यदि उसे इससे विशेष लाभ न भी हो रहा हो तो भी गूगल जैसी कम्पनी के लिये इसे चलाये रखना कोई बड़ी बात नहीं। गूगल का अन्दाजा नहीं कि इस कदम से ब्लॉगरों को कितना नुकसान होगा। यदि आप सहमत हैं तो चेंज.ऑर्ग पर या KeepGoogleReader.com पर पिटीशन साइन करें।
Google reader is shutting down

Wednesday, March 13, 2013

गूगल द्वारा बंद कर दिए ब्लॉग वापस पाने के उपाय - ज़िंदगी के मेले

गूगल द्वारा बंद कर दिए ब्लॉग वापस पाने के उपाय - ज़िंदगी के मेले

मुझे अक्सर ही ब्लॉगर साथियों के संदेश मिलते रहते हैं कि गूगल ने अपने ब्लॉगर प्लेटफॉर्म ब्लॉगस्पॉट का उपयोग कर रहे उनके ब्लॉग बिना चेतावनी के मिटा दिए हैं। :-(
कभी कभी इस सिलसिले में सूचना एक ई-मेल भी आती है कि ‘आपने ब्लॉगस्पॉट की सेवा शर्तों का उल्लंघन किया है।’
From: Blogger
Date: xxxx/xx/xx
Subject: http://xxxxx.blogspot.com/ को हटा दिया गया है
To: xxxxxxx@gmail.com
नमस्‍कार, http://xxxxxxx.blogspot.com/ पर स्थित आपके ब्‍लॉग की समीक्षा और पुष्टिकरण में SPAM के लिए हमारी सेवा शर्तों का उल्‍लंघन हुआ है. शर्तों के अनुपालन में, हमने ब्‍लॉग को निकाल दिया है और उसके URL पर अब अभिगमन नहीं किया जा सकता. अधिक जानकारी के लिए, कृपया निम्‍नांकित संसाधनों की समीक्षा करें: ब्‍लॉगर सेवा की शर्तें: http://blogger.com/terms.g ब्‍लॉगर सामग्री नीति: http://blogger.com/content.g -ब्‍लॉगर टीम

जैसा कि ईमेल से ही स्पष्ट हो जाता है ब्लॉग का हटाया जाना सेवा शर्तों के कथित उल्‍लंघन के कारण होता है। अब उल्‍लंघन का पता या तो गूगल के रोबोट जासूस करते हैं या हो सकता है आपके हमारे ही किसी साथी ने शिकायत कर दी हो इस बारे में!:-o

blog removed bspabla
अब अगर ऐसा हो ही गया है तो दहशत में आने की ज़रूरत नहीं है (कहना आसान है लेकिन जिस पर बीतती है उस बेचारे के तो होश ही उड़ जाते हैं :-) ) शुक्र मनाइए कि आपका गूगल खाता बंद नहीं हुआ। हो सकता है गूगल ने किसी भ्रामक जानकारी के चक्कर में आ कर आपका ब्लॉग दुनिया की नज़रों से दूर कर दिया हो। लेकिन निश्चिंत रहिए ब्लॉग सुरक्षित पड़ा है गूगल बाबा के चरणों में।
गूगल को धूप अगरबती ले कर मनाने की कोशिश में पहला काम कीजिए कि अपने गूगल खाते में लॉगिन करें। फिर इस लिंक पर जाएँ। खाली स्थान पर अपने ब्लॉग की कड़ी ध्यानपूर्वक लिखें। (जैसे कि http://xxxxxxx.blogspot.com/)
लिखने के बाद एक बार और घूर घूर कर जांच लें कि ठीक लिखा है या नहीं और Submit पर क्लिक कर दें।
अब अगले 48 घंटे के लिए ब्लॉग की दुनिया से दूर हो कर अपने परिवार को समय दीजिए, दिल बहलाइए। अगर गूगल को लगेगा कि उससे गलती से ऐसा हो गया है तो आपके ब्लॉग आपको दो दिन के अंदर वापस कर देगा। अगर फिर भी उसका दिल ना पिघला तो अगली तपस्या के लिए तैयार रहिए। जिसका तरीका भी बता देंगे भई :-D
… और हाँ! देर मत कीजिएगा। वैसे तो गूगल इसे अपने पास रखता है कुछ सप्ताह तक। लेकिन क्या पता कब उसका मन बदल जाए और झाडू मार कर निकाल बाहर करे आपकी महीनों-वर्षों की मेहनत।

blog export bspabla
ऎसी नौबत आने से पहले अपने प्यारे-न्यारे ब्लॉग का बैक-अप लेने की आदत क्यों नहीं डाल लेते? अब उसका तरीका भी बताना पडेगा? पहले भी कई बार बता चुका हूँ कि यह एक बेहद आसान सी आधिकारिक प्रक्रिया है जिसके लिए
  1. अपने ब्लॉगर खाते में लॉगिन करें
  2. Setting के अंतर्गत Basic में Basic Tools के सामने ही लिखा मिलेगा Export Blog, उस पर सावधानीपूर्वक क्लिक करें (पास ही में Delete Blog लिखा है, उस पर मत चले जाए माऊस, वरना मुझे दोष देंगे आप)
  3. अगले खुले पृष्ट पर DOWNLOD BLOG पर क्लिक करें
  4. जो फाईल .XML स्वरूप में सहेजी जा रही है, Save हो रही है, उसके स्थान/ फोल्डर का ध्यान रखें
बस हो गया आपके ब्लॉग का बैक अप! वैसे तरीके और भी है. उनकी चर्चा फिर कभी
सोचिए, आपके साथ ऐसी घटना नहीं हो सकती क्या?
इस लेख का मूल्यांकन करें
Rating: 9.5/10 (2 votes cast)
गूगल द्वारा बंद कर दिए ब्लॉग वापस पाने के उपाय9.5 out of 10 based on 2 ratings
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

p no

Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks

a this